10 IMP FACTS,जो बदल देंगे बिहार को लेकर आपकी सोच!

कभी अपने आपराधिक गतिविधियों के लिए बदनाम रहा बिहार इन दिनों खूब चर्चा में है। कभी विदेशी सैनिकों के आने की बातें होती हैं, तो कभी बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा विशेष राज्य के दर्जे की मांग को लेकर यह राज्य राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय परिप्रेक्ष्य में छाया रहा। अक्सर लोग बिहार की गलत छवि के कारण जानते हैं, लेकिन आंकड़े कुछ और ही कहते हैं। दो साल पहले 22 मार्च 2011 को बिहार ने अपने गठन के 100 वर्ष पूरे किये थे, उसी उपलक्ष्य में राज्य सरकार द्वारा बिहार के विकास मॉडल के आंकड़े उपलब्ध करवाये गये थे| इन आंकड़ों में कई ऐसे तथ्य शामिल हैं, जिसे पढ़ने के बाद आपकी मानसिकता बदल सकती है। हालांकि, यह आंकड़ा दो साल पुराना है, लेकिन 22 मार्च को बिहार अपने गठन का 102 वर्ष पूरा किया। ऐसे में हम आपको बता रहे हैं, ऐसे 12 तथ्य, जो बिहार को गुजरात, केरल, तमिलनाडु, आंध्रप्रदेश, महाराष्ट्र, दिल्ली सरीखे राज्यों से न सिर्फ अलग बल्कि काफी अलग करता है।

1.बिहार में केरल और तमिलनाडु संयुक्त से अधिक संख्या में लोग साक्षर हैं।
2.बिहार में आंध्रप्रदेश और केरल के संयुक्त रूप से अधिक संख्या में लोग ग्रेजुएट्स हैं। बिहारी लड़कियां केरल की लड़कियों की तुलना में अधिक संख्या में ग्रेजुएशन करती हैं।
3.यहां के छात्र पंजाब और गुजरात के संयुक्त वासियों से अधिक संख्या में डॉक्टर्स बनते हैं।
4.बिहार के लोग केरल, कर्नाटक ,तमिलनाडु, आंध्रप्रदेश और गुजरात संयुक्त वासियों की तुलना में अधिक संख्या में IAS ऑफिसर्स बनते हैं।
5.यहां के छात्र किसी भी दूसरे राज्य से अधिक संख्या में बैंक पीओ बनते हैं।
6.यहां के छात्र महाराष्ट्र और गुजरात की तुलना में अधिक संख्या में IIT में कम्पलिट करते हैं।
7.बिहार में मुंबई के तुलना में हत्या दर आधी है। वहीं, बलात्कार दिल्ली से 1/10 होते हैं।
8.बिहार में नक्सलवादियों ने आंध्रप्रदेश से कम हत्या और हिंसा की है।
9.बिहार में पंजाब से अधिक गेहूं की पैदावार होती है।
10.बिहार में किसान आत्महत्या नहीं करते हैं।

Views: 118

Comment

You need to be a member of Bihar Social Networking and Online Community - Join Today to add comments!

Join Bihar Social Networking and Online Community - Join Today

Comment by JITENDRA MOHAN SINGH on April 22, 2013 at 8:58pm

right

Sponsors

© 2018       Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service