Deepak Shandilya
  • Male
  • Patna
  • India
Share
  • Blog Posts (5)
  • Discussions
  • Groups
  • Photos
  • Photo Albums
  • Videos

Deepak Shandilya's Friends

  • Kishor Jha
  • saket
  • amarjit
  • Zeeshan Zaman
  • vikas jha
  • Krishna Kant Pandey
  • Ritika
  • surjeet jha
  • Pooja Jha
  • Neha Singh
  • Tina Sachdev
 

Deepak Shandilya's Page

Profile Information

What do you do?
Probationary officer
Who is your favourite Magadh's(Bihar) celebrity?
No One
What is your greatest dream?
To lead the Nation
Say something about Magadh(Bihar)
.....always proud to be an Indian and a Bihari.

Deepak Shandilya's Blog

आज लोगों की सोच में शार्टकट व यूज़ एंड थ्रो का फंडा है जिसमे नैतिक मूल्यों के लिये कोई जगह नहीं...

Posted on June 26, 2011 at 11:03am 0 Comments

किसी भी दौर में प्रचलित कला एवं संस्कृति उस दौर के लोगों की मानसिकता को दर्शाती है. आज लोगों की सोच में शार्टकट व यूज़ एंड थ्रो का फंडा है जिसमे नैतिक मूल्यों के लिये कोई जगह नहीं.अगर कहीं कुछ हैं भी तो व्यक्तिगत नुक़सान और नफे़ के बोझ तले दबा हुआ. आपाधापी के इस युग में किसको फुरसत है कि वो नैतिक मूल्यों का पालन करे और अपनी संतान मे भी इसे रोपे? परिणाम हमारे सामने है. भौतिक प्रतिस्पर्धा से उपजा नैतिक मूल्यों का ह्रास मुन्नी और शीला की जवानी दिखाकर हर रोज़ पतन के गर्त में और गहरे ढकेल रहा…

Continue

हम अपने दुःख में और सुख में खोए रहते हैं. न तो मां का आँचल याद रहता है और न ही मां की वो थपकियां.......

Posted on May 8, 2011 at 12:30am 1 Comment

हम अपने दुःख में और सुख में खोए रहते हैं. न तो मां का आँचल याद रहता है और न ही उन गांठों को खोलकर मां का वो चवन्नी अठन्नी देना.

याद नहीं रहती तो वो मां की थपकियां. चोट लगने पर मां की आंखों से झर झर बहते आंसू. शहर से लौटने पर बिना पूछे वही बनाना जो पसंद हो. जाते समय लाई, चूड़ा, बादाम और न जाने कितनी पोटलियों में अपनी यादें निचोड़ कर डाल देना.

  हमारे पास उन्हें देने के लिए कुछ नहीं है. हमारे बटुओं में सिर्फ़ झूठ है. गुस्सा है...अवसाद है... अपना बनावटी चिड़चिडापन है. उनकी गांठों…

Continue

हमारे यहाँ धर्म के नाम पर धंधेबाजी का अच्छा स्कोप है...

Posted on May 2, 2011 at 6:57pm 4 Comments

हमारे यहाँ धर्म के नाम पर धंधेबाजी का अच्छा स्कोप है,भारतीय भगवान के नाम पर सवाल नहीं करते. इसीलिए यहाँ स्वयंभू भगवान भी कम नहीं हैं. हमलोग तर्क नहीं करते, बस कोई कह दे कि वो भगवान है तो हमलोग उसके सामने बिछ जाते हैं. अगर हमें भगवान की पहचान होती तो ऐसे माया के पुजारियों को भगवान नहीं समझते, जो कि असल में भगवान का नाम बेचकर खा रहे हैं.सत्य साईंबाबा मरे और अपने पीछे चालीस हज़ार करोड़ रुपए का साम्राज्य छोड़ गए. अगर वो भगवान थे तो उन्हें इसकी क्या ज़रूरत थी?

संगीत ने रिश्तों में हमेशा एक अपनापन ढूंढने की कोशिश की है.

Posted on April 29, 2011 at 1:04am 0 Comments

आज़ादी के बाद से भारत और पाकिस्तान के राजनीतिक रिश्तों ने कितने ही उतार चढ़ाव देखे हों लेकिन दोनों मुल्कों में संगीत ने रिश्तों में हमेशा एक अपनापन ढूंढने की कोशिश की है. दोनों मुल्कों के कलाकार, राजनेताओं और नौकरशाहों से बेहतर राजदूत साबित हुए हैं......

Comment Wall (1 comment)

You need to be a member of Bihar Social Networking and Online Community - Join Today to add comments!

Join Bihar Social Networking and Online Community - Join Today

At 8:34pm on April 5, 2011, People of Bihar said…

Namaskar Deepak ji, Welcome to "People of Bihar" !! Make Friends, Invite your Friends and Promote www.PeopleofBihar.com !! Congratulations


Regards,

People of Bihar Team.

 
 
 

Forum

Funny Video

Started by People of Bihar Jul 31, 2017. 0 Replies

Industrilisation in bihar? how!

Started by Ca Subhash Kumar Singh. Last reply by Rajesh kumar jha Mar 10, 2017. 3 Replies

Markanadya Katju on Giving Bihar to Pakistan

Started by People of Bihar Oct 2, 2016. 0 Replies

Developing our own state instead of migrating to other parts of the country.

Started by Rannkumar chaurasia. Last reply by Rannkumar chaurasia Oct 6, 2014. 11 Replies

Vijay Goyal: STOP UP Bihar People to come to Delhi

Started by People of Bihar. Last reply by Ashutosh Kumar Sinha Aug 2, 2014. 2 Replies

Sponsors

© 2019       Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service