धर्मयुद्ध: "ब्राम्हणवाद बनाम दलितवाद" !!

                

धर्मयुद्ध: " ब्राम्हणवाद बनाम दलितवाद " !!

हमारे बिहार का विकास पिछले एक हज़ार सालो में इसलिए नहीं हो सका है क्यूंकि यह "धर्मयुद्ध: "ब्राम्हणवाद बनाम दलितवाद " चलता आ रहा है !! मै तमिलो के बीच रहा हू, वो इसीलिए विकसित है क्यूंकि  वहाँ  न तो ब्राम्हणवाद है न ही दलितवाद ! तमिल ऐसा मानते है और यह बाबासाहेब  अंबेडकर ने भी अपनी पुस्तक में लिखा है कि "भारत राष्ट्र" में जातिवाद का जन्म  "आर्य हमलावरों" ने किया था जिससे वो भारत देश पर निर्भय होकर राज कर सके !! बाल गंगाधर तिलक ने भी अपनी पुस्कत में आर्य हमलो कि बात कही है !! भारत देश पर शासन करने के लिए आर्य लोगो ने भारत को जातियों में तोड  दिया , जिनका नाम था ब्राम्हण , क्षत्रिय , वैश्य और शुद्रो (जो आगे चलकर दलित कहलाये) !! जिन्हें शुद्र कहा गया वो वास्तविक में सच्चे भारतीय थे जो आज द्रविड़ कहे जाते है और भंगी, चमार, मेहतर, कुर्मी, पता नहीं  क्या  क्या नाम दे रखा है हमारे लोगो को ?? यह रणनीति काम आई और आर्यो खुद  ऊँची जाति  लेकर बैठ गए , वो खुद को सर्वश्रेष्ठ  ब्राह्मिन और क्षत्रिय कि उपाधि ले बैठे और भारत जातिवाद की हिंसा का शिकार हो गया !! भारत देश में नीची जाति कहलाने वालो पर इतनी हिंसा  कि गयी कि वो सब लोगो ने धर्मपरिवर्तन करा के मुसलमान और इसाई बन गए !! फिर देश स्वंतंत्र हुआ और धरम के नाम पर भारत का बंटवारा हो गया , मुसलमानों को पाकिस्तान मिल गया और हिन्दुओ को हिंदुस्तान मगर हिंदुस्तान में जात तब भी ख़तम नहीं हुई और सबसे ज्यादा प्रभावित हिंदी बोलने उत्तर प्रदेश और बिहार के लोग ही हुए !! जहाँ  तमिल कन्नड़, तेलुगु, मलयाली  लोगो ने हिंदी को राष्ट्रभाषा बनने पर जमकर विरोध किया वही हिंदी बोलने वालो ने हिंदी को ज़बरदस्ती राष्ट्रभाषा  बनाने में भी कोई कसर नहीं छोड़ी , हिंदी को लेकर तमिल नाडू में दंगे भी हो गए मगर हिंदी नेता तस से मास नहीं हुए !! उन्होंने उत्तर भारत के लोगो में यह भावना भडी कि हम सब आर्य है और इन काले दिखने वाले द्रविड़ो से श्रेष्ठ है , भोली भली जनता ने यह बात मान भी लिया  और इस बात को मनवाया RSS के लोगो  ने !! जहाँ दक्षिण भारत ने ब्राम्हणवाद और दलितवाद  दोनों को अस्वीकार कर दिया और मनुष्यों के सामान अधिकारों कि बात कही  वही उत्तर भारत के नेता अंधे ब्राम्हणवाद और दलितवाद के चपेट में आ गए !

 परन्तु बिहार जिसका वास्तविक नाम मगध है , मगध को इस जातिवाद का सबसे बड़ा खामियाजा भोगना पड़ा , जहाँ बिहार (मगध) ने सम्राट अशोक के समय में बिहार से जातिवाद  उखाड़ कर फेक दिया था और विश्व  का महानतम देश बन गया था, हमारा मगध देश (बिहार) जिसको हमारे पूर्वज अशोक ने अपने खून से सीचा, उसी बिहार के प्रथम मुख्यमंत्री ने  श्री कृष्ण सिन्हा ने जातिवाद कि वो नीव रख दी जो स्वन्तन्त्रता के ६५ सालो बाद भी नहीं समाप्त हो पाई है , यहाँ लोगो ने जात के नाम पर सेना बना ली, रणवीर सेना, यादव सेना, ब्रह्मिन सेना , MCC (काश बिहार सेना बनाया होता तो बिहार के लोगो की महाराष्ट्र  में हत्या नहीं होती ), आपको शायद याद नहीं होगा मगर मै याद दिला देता हू इसी रणवीर सेना के लोगो ने 1997 में इन लोगो ने 16 बच्चो, 27 महिलाओ, 18 लोगो कि हत्या कर दी , 1995 में ५० लोगो को मार डाला , 1999 में २२ लोगो को मार डाला , बिहार को लोग दूसरा कश्मीर कहने लगे और यह सब हुआ सिर्फ जातिवाद के कारण !! इन लोगो ने सिर्फ दलितों को मारा यह कहकर कि यह नीची जात वाले है !! वही  MCC  वाले ने भी बहुत सारे बेगुनाह लोगो  को मौत के घाट उतारा  (यह जतिग्रसित लोग बचपन में  आज तक कभी अपने बाप और माँ से कभी  नहीं पूछते है  कि पिताजी तुम्हारी जात क्या है, माँ तुम कौन जात से हो  ??  लेकिन बाकी सारे लोगो से पूछते है कि तुम्हारी जात क्या है, सब नामर्द है जो एक नारी पर शास्त्र उठाते है, बच्चो कि हत्या करते है ) !

अब आते है हमारे भाई उत्तर प्रदेश प्रदेश पर , जहाँ उत्तर प्रसेश में ब्राह्मणवाद को BSP ने उखाड़ फेका , वही दलिवाद ने अपना पैर पसार लिया, उत्तर प्रदेश दलितवाद के प्रभाव में आ गया !! आपने ब्राम्हणवाद तो सुना होगा, दलितवाद  शायद पहली बार सुन रहे है !! मेरा मानना है कि अगर ब्राम्हणवाद पाप है तो दलितवाद भी पाप है, जहाँ ब्राम्हणवाद में सिर्फ ब्राम्हणवाद की बात होती है, वही दलितवाद में सिर्फ दलितवाद की बात होती है , और भारत का विकास सिर्फ एक जाति के लोगो की बात करके नहीं होगा, आप देखिये उत्तर प्रदेश में दलितवाद अपने चरम पर है, दलित महिला मुख्यमंत्री , दलितों को Reservation और पता नहीं कितनी सारी सुविधाए परन्तु फिर भी उत्तर प्रदेश विकसित राज्य की श्रेणी से कोसो दूर है, आये दिन निर्दोष लोगो की हत्या होते रहती है  !! अब आते है तमिल नाडू पर , तमिल नाडू में न ब्राह्मणवाद है , न दलितवाद !! उत्तर भारत की मीडिया चाहे जितना भी करूणानिधि की बुराई करे परन्तु सत्य है की वो एक महानतम तमिल है , उन्होंने लत्ते को इतना मदद किया जितना RSS हज़ार जन्मो में भी हिन्दुओ को नहीं कर पायेगा, करूणानिधि ने अपनी पुस्तक में लिखा है, मै ब्राह्मण का विरोधी नहीं हू, मै ब्राम्हणवाद का विरोधी हू, यह वैसे ही है जब कोई बिहार के लोग कहते है , हम महाराष्ट्र के विरोधी नहीं उस राक्षस "राज ठाकरे" के विरोधी है जो भरे समाज में बिहार के लोगो को पीटने और उनका खून बहाने की वकालत करता है जैसे नाज़ी हिटलर यहुदुओ के खून बहाना पवित्र करम मानता था , और यह सहज संयोग ही नहीं समानता है की राज ठाकरे हिटलर को अपना आदर्श मानता है , वो बिहार के लोगो का खून बहाना "मराठा धरम" मानता है !!

 

मै ब्राम्हणवाद की कुछ निशानी लिख रहा हू , ज़रा ध्यान दे :

 

ब्राम्हणवाद के प्रमुख अन्यायकारक तत्व :
01) वर्णव्यवस्था छुआछुत भेदभाव उच्च-नीच को मान्यता देना
02) महिलाओ की गुलामी को बरक़रार रखन
03) अन्धविश्वास पूजा अर्चना कर्म कांड को मान्यता देना
04) भाग्य और भगवन के भरोसे रखकर लोगों को अकर्मण्य बनाना
05) अवतारवाद को मान्यता देना
06) पाखंडवाद को मजबूती देना
07) आदमी के अन्दर की विचार शक्ति, चिंतन बुद्धि और विवेक बुद्धि को नष्ट करना
08) आदमी को जानवर बना के रख देना
09) समाज का सम्पूर्ण नियंत्रण नेतृत्व अपने हाथ में लेना
10) सत्ता पर सदैव कब्ज़ा करना
11) गुरु मार्गदर्शक केवल ब्राम्हण ही होने को मान्यता देना
12) ब्राम्हण को भोजन और दान से समस्त पापो का ख़त्म होने की मान्यता का प्रचार करना
13) स्वर्ग नरक के चक्कर में फसकर ठगना
14) आदमी को जन्म से मृत्यु तक अपने कब्जे में रखना
15) क्रमिक असमानता को बनाये रखना
16) विभिन्न जातियो का निर्माण कर उन्हें ६००० टुकडो में बाटना
17) एकता विरोधी वातावरण बनाना

 

अब मै दलितवाद के अंश लिख रहा हू :
1) सिर्फ और सिर्फ दलितों की बात करना
2) हर समय Reservation मांगते रहना , Reservation मिलने के बाद भी खुश नहीं रहना
3) हमेशा झगडते रहना , अपने आप को स्पेशल status देने की मांग करना
4) जातिवाद को और मजबूत करना
5) दलित Reservation की वजह से अयोग्य व्येक्ती का उच्चे पद पर कार्यरत होना जिससे सम्पूर्ण व्यय्स्था का नष्ट होना
6) Rational Thinking को स्वीकार ही नहीं करना

आज हमने यह देख लिया की ब्राम्हणवाद हो या दलितवाद दोनों असफल हो चुके है ,  जब भी किसी भी जात की बात होगी, यह क्रिया असफल ही होगी, हमारी सिर्फ एक ही जाति है और वो है मनुष्य जाति !! तमिलो ने इस सत्य को मन और तमिल नाडू एक बहुत ही विकसित राज्य है !!

 

मै, आकाश अर्जुन, मगध (बिहार) का एक पुत्र  सिर्फ ये बताने की कोशिश कर रहा है की अगर बिहार को आगे बढ़ाना है  यह हमें अपने पूर्वज सम्राट अशोक की तरह सोचना होगा और बिहार से जाति का नामोनिशान मिटाना होगा, मै आपको अशोक वंदना के वो शब्द सुनाता हू जो अशोक ने तक्षिला से युद्ध होने से पहले मगध (बिहार) के सैनिको को कहा था  "तुम न तो ब्राम्हण हो, न ही क्षत्रिय, न ही वैश्य, न ही शुद्र, तुम आज सिर्फ और सिर्फ मागधी हो, तुम्हे तक्षिला को मगध के ध्वज के भीतर लाना है, इस पृथ्वी पर जहाँ जहाँ भूमि है मै उसको मगध (बिहार) के ध्वज के अंतर्गत देखा चाहता हू, मगध जयते !! मगध का पराक्रम अमर रहे !! मगध जयते !!" न तो ब्राम्हणवाद उचित है न ही दलितवाद , इसीलिए इन दोनों को उखाड़ को फेक दो और मगधवाद (मनुष्यवाद) को स्वीकार करो , अब वो काल आ गया जब हमारा बिहार फिर से शासन करेगा , आप सब जाग जाइए , अब हमारा समय आ गया है !!

 

जय हिंद जय बिहार !!
मगध जयते !!

 

आकाश अर्जुन !!

 

Views: 4088

Reply to This

Replies to This Discussion

Shri Aakash Arjun jee,Pata nahi aap jatiwad se etana ghabrate kyon hain.jati pratha Viswa ke har kone me sada se raha hi hai aur Rahega bhi. ese aap theek se samjhen.varn Vyavstha ( varnashram ) hi jatiwad ke rup me ubhara. Varnashram me char Varn hain .(1) Brahman:- Atyant budhiman vyaktiyon ke us varg ka soochak hai jo Brahm ko janjta hai. (2) kshatriya: -prashashak varg ke Buddhiman tatha Balwanvarg ka soochak hai. (3)vaishya: -vyapari varg ka soochak hai. (4) Sudra: - sewa karne wale varg ka soochak hai. Ab aap bataye sansar me kahaan aise log nahi hain ,tatha unka vargikaran nahi hai.  uske liye unka apna nam hai.  har jagah ke logon me esi char tarah ke log hain . ham sab ese theek se banaye nahin rakh sake esme vyavstha ka kya dosh hai. aapse maine kaha hai ki aap  kisi bhi bat ko samajh kar  Aisi bat karen jisse aapas me doori N barhe.  narendra mishra

Dhanyavaad Ranjan ji. bahut accha likha hai aap ne mai aap se shamat hu.

Dear Aakash, very first time i am writing to this platform you had given to us. As earlier discussed i want to explore that idea because this is the  platform where idea could generated, justified by the intellectuals we have in peopleofbihar.com and finaly we could get proper guidance from the elders and suggestions from the youngers. 

so, a very respect to all the members over here. by not consuming your time, i am coming to the point. See, we all want from depth of our heart to develop our motherland "BIHAR". But the thing is that, who will develope Bihar and how???

Is this possible by an individual or a group of people or team is required or back migration of success migrants and so on....???

A lot of things are there which we are unable to do even we wish a lot!!!

This is not our mistake... Even a farmer wishes to see his son or daughter becoming an MBBS doctors.. But its not happening..

**see... the most important thing is to take a possible initiative by the individuals.....

But i think i am wrong at this point!!

To GENERATE  development in terms of economy, employment, education and so on... irrespective of the individual effort we require the LEADERS from different areas.., a devotee and active LEADER . The LEADER may be an Engineer, Doctor, Teacher, Police men, and so on.. and we also need the very intellectual people in our board of director team so the the generated ideas can be implemented by chain system.

we have to keep our focus from very first beginning by considering the current generation. if we are able to do the things now for this generation, Guys, you wont believe, We will win...

Because, always discussion will not be the solution.. I agree the without discussion and planning nothing can be done.. the things are required to the done..

So, My things are:

1)I want development in terms in primary education specially in villages where people dont know what is the importance of education or due to any reason the fail to provide education to the children.

2)I want to conduct a regular events among the children, youngsters and the literates consisting compititions like dancing, quiz, sample exams of different areas.. programs to show the history of Great Bihar to make them proud to be called as Bihari because people are not aware of the history of Bihar.

3)most important thing is employment---- we, our team, i dont want to disclose it now.. are working on this mission to launce different employement resources over there like BPO's, Call centres, KPOs, engineering firms, Data entry jobs, Home jobs for housewives and Sisters.

and a lot of things..

Now you people might be thinking after going through my sricpt that i m only writing.. why shouldnt i go back to my mother place the do the same..

So, I wud like to speak on this.. Its not possible for an individual like me to go and visit all the helpless place and bring the things.

we need a team, active members.. so that we can generate education, employement over there.. we are working a lot on this as its not a cup of tea. we have to fight in the competitive market to bring the projects from big cities, metroes, and abroad..

We have to divide the work and have to go with the defined work

 

very soon we will have discussion on this.. please forward this to your frends, colleagues, elders, youngers and help you and us to make our land Green and Rich..

now its time for me to go home by leaving my office..

A lot of things are to say ..

Thanks to dear aakash to provide such platform where we can share ideas and i know surely one day will come when we will say-- yes i am Bihari.

a request to all the ppl plz write here and cooperate us to reach Bihar at the toppest position.

we have the potential and we can do...

bye everyone

Jai Hind

Jai Bihar

 

 

Dear Ranjan,

I do agree with you. We at least now, must forget the past and let us endeavor for a good future for our kids. You are completely right that Corruption must be eradicated. Our society structure has been made like that everyone tries to please the corrupts as these people have power and money. This is a dangerous trend and the result is before us now. We general public, should work to remove this first and foremost issue- CORRUPTION. Some days back I had asked Aakash Ranjan to do something and make a frame work through we all participants.

Even now we can do something - at least raise our collective voices to curb this menace. If you all agree, I will initiate suggestion for the framework draft ,and slowly moving in this direction and would like to add all to join this forum under mutual understanding only. Needless to say we are the people who have nothing to do with cast , creed , religion , just we want to be a true patriot and saviour of our society and thereby giving a true, honest and impartial future to our coming generation.

Awaiting for all responses!!!!!!!!!!

G8 view bro i like this

Bahut jyada achha, who told u tht there is no bramhan disputes in kerla (south). Friends bramhan dalit mat bhed to aur chua chuvu ka problem duniya janati hai. Par ye koi janta hai ki ek bramhan ki dusre bramhan par chaya padne se kalankit ho jata hai, its in kerla, up aur bihar k bad agar hindu to muslim/christin conversion hua hai to kerla aur taminad aur kerla me(in present days)
tamilnadu to itna jyada devolop hai ki outer areas me 12 hrs power supply nhi rahata on daily basis and in chennai 4hrs, aur south india me koi dispute nai tabhi to karnataka ka pani tamilnadu ko nai milta even after pine k pani ka bahut jyada problem hai,
Hey friends, very first i would like to appreciate u all and initiative of akash arjun, even i would like to suggest u something for education for poor children those who r not able to get in,
1. U can take resposibility to educate one financialy weak angel or prince (atleast till 10 std)
(i m doing it since 5 years in pune so m suggesting u)
2. Take time, get together and start ur own sanstha (trust) for educational purpose
3. Start ur tour through out state and start educating people that how imp education is.
I hope it may help u. Best luck, jai hind, jai bihar, jai maharashtra

कितना इतिहास को पढ़ा है ये आपके विचारो से झलक भी रहा है
अपने लार्ड मैकाले की शिक्षा पद्धति के शिकार  हो गये है
आप इतिहासकारों के अनुसार कहेंगे की हिन्दू दुसरो के द्वारा दिया गया नाम है

और कभी मनु स्मृति पढो भाई जी
तब आपको in जाती के बन्धनों से मुक्ति मिलेगी

द्रविड़ कौन है इसके बारे में मैंने कभी वेदों-पुरानो  में नहीं पढ़ा
जबकि आर्य अपने सभी युद्धों को अपनी किताबो में लिखते थे
जबकि ये बड़ी युद्ध रही होगी इसका लिखित प्रमाण अवश्य अर्यो को करना चाहिए था l


RSS ने अटल बिहारी वाजपयी जैसे प्रधानमंत्री दिया
और मोदी को भी देगा
RSS के खिलाफ घृणा फैलाते हो
मालूम नहीं आप चीन से युद्ध के बारे में जनते  भी नहीं हो
जब सेना युद्ध के लिए चली तब एक RSS मात्र एक ऐसा
संस्था था जिन्हों ने सेना की सेवा की
RSS ही है जिनके कारण आज भी पंजाब भारत का मुख्य अंग है
RSS ही है जिन्होंने भारत की इस दोगली सेकुलर राजनीती को
बदला है l

Mr. Ranjeet. Kindly talk with some Respect. Is this the way your Parents taught you?? At First, you use abusive language and then when you don't know anything, you start licking the as* of RSS.

Do you even know what has been written??

First of all, RSS Never Criticized Raj Thakre and Bal Thakre for beating and killing Bihari Hindus?? Where was their Hindutatva gone at that time?? If you even read a better history which I am sure you haven't. RSS always said that Nathu Ram Godse was not from their Team or was their member. Infact they back stabbed Nathu Ram Godse effort of killing Gandhi. In the end the Winner of Hindus was the Hindu Mahasabha and God sent Hindu Pitamah "Vinayak Damodar Savarkar". Everyone knows how Gowalkar hated Veer Savarkar and he never wanted his Ideals of Hindutatva to come.

Your very own Leader Gowalkar at once instatnce said, "I support Hitler for purifying Aryan Race by killing Jews." And at second instance, he said"India must support Jews of Israel and follow their style of Fighting with Islam". Now that is hypocrisy. Gowalkar was NO GOD but Veer Savarkar was. And you must decide, Are you born from Marathi RSS or from a True Blood Bihari Hindu?? If your father is an RSS wala, you can go to Maharashtra and live there but if your Father is a Bihari, you must talk about Bihar.

Jai Hind

Reply to Discussion

RSS

Forum

Funny Video

Started by People of Bihar Jul 31, 2017. 0 Replies

Industrilisation in bihar? how!

Started by Ca Subhash Kumar Singh. Last reply by Rajesh kumar jha Mar 10, 2017. 3 Replies

Markanadya Katju on Giving Bihar to Pakistan

Started by People of Bihar Oct 2, 2016. 0 Replies

Developing our own state instead of migrating to other parts of the country.

Started by Rannkumar chaurasia. Last reply by Rannkumar chaurasia Oct 6, 2014. 11 Replies

Vijay Goyal: STOP UP Bihar People to come to Delhi

Started by People of Bihar. Last reply by Ashutosh Kumar Sinha Aug 2, 2014. 2 Replies

Sponsors

© 2019       Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service