"जातिवाद एक समस्या"

hello friends, जातिवाद के जन्म के समय जातिवाद की परिभाषा और रूप जो भी रहा हो । परन्तु आज जो जातिवाद का रूप है उसे कतई सही और समाज के लिए हितकर नही कहा जा सकता है । एक तरफ लोगो को जाति के नाम पे मिल रहे आरक्षण से बुरा लगता है और दूसरी तरफ वो जातिवाद को सही मानकर उसे बढ़ावा भी देते है । अगर आपको आरक्षण गलत लगता है तो जातिवाद को खत्म करो ना । जातिवाद खत्म होगा तो आरक्षण भी खत्म हो जाएगा । आज के समय में जातिवाद को कुछ लोग सिर्फ इसलिए सुरछित और जिंदा रखना चाहते है ताकि वो जाति के नाम पे राजनीति कर सके और कुछ जाति के बहाने बिना कोई उपलब्धि हासिल किये सिर्फ जन्म के आधार पे खुद को औरो से श्रेस्ठ साबित कर सके । और ऐसा जयादातर गावों में इसलिए होता है क्योंकि वहां साछरता कम होती है, गरीब ज्यादा होते है । जो समझदार है वो जानते है कि जातिवाद किसी इन्सान और समाज के सफल होने में कोई भुमिका अदा नही करता है । ये सिर्फ हमारी एकता को तोरने का एक हथियार भर है, या यों कहे की ये हमारे समाज में एकता कायम करने की राहों में सबसे बरी बाधा है। जिनके अन्दर मेहनत और सच्ची लगन है वो तो जात-पात भूलकर मिल-जुलकर आगे बढ़ रहे है और जाति के नाम पे बटे भारत को एक करने की कोशिश कर रहे है । आप जरा दिल और दिमाग दोनों से सोचकर बताये की अगर मुझे वेद-पुराणों और धर्म का ज्ञान नही तो मै पंडित किस बात का, अगर मुझे युद्ध-कौसल का ज्ञान नही तो मै छत्रिय किस बात का, अगर मुझे खेती नही आती तो मै कुर्मी और कुशवाहा किस बात का, मुझे technologies का ज्ञान नही तो मै engineer किस बात का । पर कुछ लोगो को इस बात से कोई फर्क नही परता, वो सिर्फ अपने फायदे के लिए हमारे समाज को, हमारे युवा शक्ति को बांटकर कमजोर बनाना चाहते है । हमारे बिहार को पिछड़ा राज्य बनाने में ऐसे लोगो का बहुत बरा हाथ है । पर आज ख़ुशी इस बात की है कि हमारे आज के युवा ने धीरे-धीरे इस प्रथा को इसका सही अंजाम देना शुरु कर दिया है । अरे लरने,मरने और सुलझाने को ये अलग-अलग धर्मो के बीच की समस्या कम है, जो लोग इस जाति नाम के जख्म को भी पाले रखना चाहते है । मै जाति को इक जख्म इसलिए कह रहा हूँ क्योंकि आज के हालात में यही नाम इसके लिए सही है । कर्म के आधार पे अगर लोगो को जातियां बाटी जाती है तो मेरी सोच से जाति सिर्फ दो ही तरह की होनी चाहिए । एक 'अच्छे लोग' जो अच्छे कर्म करते है, दुसरे 'बुरे लोग' जो बुरा कर्म करते है । साथ ही बुरे लोगो को किसी तरह का आरक्षण नही मिलना चाहिए और अच्छे लोगो को पुरा हक़ है कि वो बुरे लोगो की बुराई से उनके कर्म से घृणा करे । अगर मेरी बाते मेरे किसी भाई को बुरी लगी हो तो मै छमा चाहता हूँ । मैंने सिर्फ अपने विचार आपके सामने रखे है । अगर आप मेरे विचारो से सहमत नही है तो कृपया अपने तर्क और विचारो से मुझे अवगत कराएँ, अपनी नाराजगी से नही ।

Views: 633

Reply to This

Forum

Funny Video

Started by People of Bihar Jul 31, 2017. 0 Replies

Industrilisation in bihar? how!

Started by Ca Subhash Kumar Singh. Last reply by Rajesh kumar jha Mar 10, 2017. 3 Replies

Markanadya Katju on Giving Bihar to Pakistan

Started by People of Bihar Oct 2, 2016. 0 Replies

Developing our own state instead of migrating to other parts of the country.

Started by Rannkumar chaurasia. Last reply by Rannkumar chaurasia Oct 6, 2014. 11 Replies

Vijay Goyal: STOP UP Bihar People to come to Delhi

Started by People of Bihar. Last reply by Ashutosh Kumar Sinha Aug 2, 2014. 2 Replies

Sponsors

© 2019       Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service